Breaking News

CSJMU की छात्रा ने अपने ही विश्वविद्यालय के एसोसिएट्स प्रोफेसर की क्यों कर दी चप्पलों से पिटाई। छात्रा को रातों रात विश्वविद्यालय ने सरकारी गाड़ी से भेजा घर। रात दो बजे पहुंची छात्रा अपने घर स्टाफ ने बताया परिजनों को छात्रा है बीमार रजिस्ट्रार की सरकारी गाड़ी सफारी का किया उपयोग। मामला गंभीर

विपिन सागर (मुख्य संपादक)

कानपुर। छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविद्यालय कानपुर में लगातार मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। कभी घोटालों को लेकर तो कभी कुलपति और कर्मचारियों की बगावत को लेकर। आये दिन सुर्खियों में बना ही रहता है। ऐसा ही एक बड़ा मामला सोमवार दोपहर को हो गया। जहां होस्टल में रहने वाली एक छात्रा ने, यूआईटी पूर्व निदेशक और मौजूदा चीफ वार्डन डॉ आर एन कटियार को चप्पलों से पीट दिया और सुरक्षाकर्मी देखते रह गए। 

आपको बताते चले विश्वविद्यालय ने छात्राओं के स्वास्थ के लिए एक एप बनाया है। जिसके आधार पर एक काउंसलिंग कमेटी बनाई है। जिसमे छात्राएं अपनी समस्याएं बता सके। ताकि छात्राएं तनाव और डिप्रेशन मुक्त रहकर अपनी पढ़ाई अच्छे से कर सकें। इस काउंसलिंग का उद्देश्य है। कि  छात्राएं अपने मन की बातों को बता कर के जल्द से जल्द उन चीजों को भूल कर एक नए जीवन की शुरुआत कर सकें। लेकिन कानपुर विश्वविद्यालय ने कुछ उल्टा ही कर दिया कायमगंज फरुखाबाद की रहने वाली एक छात्रा, जोकि हॉस्टल में रहकर अपनी पढ़ाई कर रही थी। काउंसलरों ने एक छात्रा के पुराने अतीत को जानकर उसके जीवन से जुड़ी हर एक बात लिख कर व्हाट्सएप ग्रुप विश्वविद्यालय के छात्रा ऐप पर अपलोड कर दिया। जोकि किसी की गोपनीयता वाली जिंदगी को सार्वजनिक कर दिया। जिसकी भनक गर्ल्स हॉस्टल की सभी छात्राओं को छात्रा को लग गई। और छात्राओं ने हंगामा खड़ा कर दिया। हंगामा सुन डॉ आर एन कटियार मौके पर पहुंचे। जैसे ही डॉक्टर आर एन कटियार हॉस्टल पहुंचे वैसे ही नाराज छात्रा ने चप्पल उतार कर चीफ वार्डन को पीटना सुरु कर दिया। मार खाते हुए किसी तरह डॉ कटियार वहां से अपनी गाड़ी छोड़ भाग निकले। जिसकी खबर पूरे CSJM विश्वविद्यालय में आग की तरह फैल गई। सूचना पाते ही विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो विनय कुमार पाठक और रजिस्ट्रार डॉ अनिल यादव मौके पर पहुंचे और किसी तरह मामले को शांत कराने की कोशिश की लेकिन छात्रा ने गोपनीयता भंग करने वाले डॉ कटियार को फिर बुलाने की जिद की, लेकिन किसी तरह छात्राओं को समझाया बुझाया गया। और मामले को शांत कराया। जिसके बाद कुलपति ने छात्रा को हॉस्पिटल भेजने की बात की तो छात्रा भड़क गई और कहा में ठीक हूँ अपने कर्मचारियों का इलाज कराओ। हॉस्पिटल की जीद पर छात्रा ने फिर हंगामा कर दिया और जबरजस्ती कर रही महिला गार्ड को भी कई तमाचे जड़ दिए। लेकिन माहौल शांत कराने के लिए किसी तरह छात्रा को एम्बुलेंस द्वारा अस्पताल भेजा गया। 

मार खाते ही डॉ आर एन कटियार हो गए फरार

जब डॉ आर एन कटियार गर्ल्स हॉस्टल पहुंचे छात्राएं चप्पल लेकर मारने पर जुड़ गई बीच बचाव कर रही महिला सुरक्षा कर्मचारी को भी चप्पले पड़ गई और आखरी में छात्रा को जबरदस्ती एंबुलेंस में बैठाने के मामले मैं छात्रा ने महिला सुरक्षा सुरक्षाकर्मी को कई तमाचे जड़ दिए

क्या हुआ यूआईटी पूर्व निदेशक और चीफ हॉस्टल वार्डन डॉ आर एन कटियार का

मामले को बढ़ता देख विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर विनय कुमार पाठक ने तत्काल प्रभाव से हॉस्टल वार्डन के पद से हटाते हुए प्रति कुलपति को चीफ वार्डन का चार्ज दे दिया साथ ही गर्ल्स हॉस्टल का चार्ज ममता तिवारी को दे दिया गया, वहीं वॉइज हॉस्टल का चार्ज मौजूदा सुरक्षा अधिकारी डॉक्टर विनोद वर्मा को दे दिया गया है।

क्या हुआ छात्रा के साथ

छात्रा के हंगामे के बाद अस्पताल भेजा गया था छात्रा के शांत ना होने पर ने अपना निर्णय लेते हुए विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार की सरकारी गाड़ी द्वारा छात्रा को रातो रात फर्रुखाबाद के कायमगंज छात्रा के निवास पर भेज दिया गया और छात्रा के परिजनों को यह समझा दिया गया कि आपकी बेटी की तबीयत ठीक नहीं है आखिर विश्वविद्यालय अपनी कमी को छात्रा और उसके परिजनों पर क्यों थोप रहा है

ऐसे में छात्रा न उठा ले कोई बड़ा कदम
सूत्र बताते हैं की इस मामले के बाद छात्रा ने सुसाइड करने की कोशिश की लेकिन साथ में रहने वाली छात्राओं ने उसे रोक लिया हालांकि यह कोई बड़ी बात नहीं है। कुछ इस तरह के मामले में पहले भी एक छात्रा ने सुसाइड किया था जिसमें एक शिक्षिका और पुलिस के दरोगा जी भी जेल की  हवा खा कर आए हैं।

क्या बोले रजिस्ट्रार
विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार डॉक्टर अनिल कुमार यादव ने कहा है मामला गंभीर है। चीफ वार्डन डॉ आर एन कटियार को दायित्व से हटा दिया गया है। आगे की कार्यवाही जांच बैठा कर की जाएगी।

द हिंदी न्यूज करेगा इसी खबर से जुड़ी एक बड़ी खबर का खुलासा

9 comments:

  1. Video upload karo iska.

    ReplyDelete
  2. Thik hua bc.. esi layak tha ye.. sbko torture krta tha

    ReplyDelete
  3. Or maaro isko isko kya jo jo esha kare unsb ko itt ka jawab Pather se do girls .
    Never give up 👆

    ReplyDelete
  4. I'm a former student of UIET, CSJMU and I can confirm he is most arrogant, unprofessional and biased professor in CSE department.

    ReplyDelete
  5. Corrupt and abusive hostel warden tha ye

    ReplyDelete
  6. Chehra dekh k number deta hai ye, jisko pasand nhi krta uski backlog

    ReplyDelete
  7. charlie ko pel diya

    ReplyDelete

Thank you